Connect with us

Featured

Khotachiwadi – The Hidden Treasure of Bombay

Published

on

Bombay, for all its generosity and effulgence, has also been a  city bathed with numerous surprises. Being the great metropolis that it is, one never misses to find a unique aspect, a piece of novelty here. I nearly passed out with excitement and delight when I visited Khotachiwadi – a place which is an entirely different world in itself, a place which now has my heart.

A lane in Khotachiwadi

A lane in Khotachiwadi

Tucked away in Girgaum at the end of Jagannath Shankarshet road is a quaint little hamlet which is one of the finest representations of the history, lifestyle and cultural structure of ancient Mumbai.

A Portugese style house in Khotachiwadi

A Portuguese-style house in Khotachiwadi

This Goathan (village) was founded by Khot, who belonged to one of the Pathare Prabhu (Hindu Brahmin) families, who eventually sold off plots of this particular land to many East Indian Christians. Hence originally, Khotachiwadi was home to two communities – Maharashtrian and Christian which were then followed by many others like Goans, Marwaris, Gujaratis, Sindhis etc.

Bridget Misqitta - resident of Khotachiwad. Photo Courtesy - Ethel Misquitta

Bridget Misqitta – resident of Khotachiwadi. Photo Courtesy – Ethel Misquitta

It is a poised and collected settlement with beautiful winding lanes decorated with 150-200 years old bovine buildings and houses. The bungalows proudly reflect the ancient Portuguese architecture of great heart and detail. Here, every lane, every alley, and every shrine has a story to tell.

Beautiful collections at Willy's house. Photo Courtesy - Ethel Misquitta

Beautiful collections at Willy’s house. Photo Courtesy – Ethel Misquitta

The buildings of Khotachiwadi were built in the late 19th or early 20th century which were originally inhabited by the East Indian Christians and the Pathare Prabhus. Each house here displays a modest dimension to its architecture which again, is a great example of Indian craftsmanship during the British Raj.

Bridget Misquitta's house in Khotachiwadi

Bridget Misquitta’s house in Khotachiwadi

Single storey cottages richly colored in red, yellow and green, sloping tiled roofs and wooden spiral staircases along with high-raised ceilings, serene verandahs and front porches, brightly painted doors and windows and tapering lanes of never-ending beauty – Khotachiwadi has, without a doubt, stood the test of time and pleased hearts of millions across countries.

Jame's Ferreira's house. Photo Courtesy - Ethel Misquitta

Jame’s Ferreira’s house. Photo Courtesy – Ethel Misquitta

Together, all these vivid elements radiate the charm of Konkan-Portuguese architecture. The streets are one of the strong elements of the village. To wander into the interiors of Khotachiwadi is to witness a little world – content in itself. It is no surprise how widely it’s being called ‘Mini Goa’.

James Ferreira's colonial style house

James Ferreira’s colonial style house

Right at the entrance of Khotachiwadi is the Girgaum Catholic Club, founded in 1894, which is a hub for vivid festivals, gatherings, and events.

Old Portugese architecture in James Ferreira's house. Photo Courtesy - Ethel Misquitta

Old Portuguese architecture in James Ferreira’s house. Photo Courtesy – Ethel Misquitta

While proceeding on my tour of the village, I was pleasantly interrupted by a man who was mildly strumming happy tunes on his guitar while singing joyfully in his house.

Wilfred Felizardo (Willy) in his 120 years old house in Khotachiwadi. Photo Courtesy - Ethel Misquitta

Wilfred Felizardo (Willy) in his 120 years old house in Khotachiwadi. Photo Courtesy – Ethel Misquitta

My further introspection led to interaction with him, was when I found myself at the receiving end of facts earlier unknown to me. Wilfred Felizardo, a native from Goa, stays in no. 57 Khotachiwadi. He is largely known ‘Willy Black’ by his resident friends and family. Willy’s 120 years old house is not merely a house but a piece of art.

Willy's house. Photo Courtesy - Ethel Misquitta

Willy’s house. Photo Courtesy – Ethel Misquitta

Largely laden with heritage artifacts, ancient wooden pieces, lamps, lanterns, luminous chandeliers and more, it only goes to show how big of an arts and crafts enthusiast Willy is. “Enjoy life as it is, because Zindagi na Milegi Dobaara”, says Willy with a lyrical smile on his face. He is your ideal happy-go-lucky man, fully living life, not missing out on its beauty.

The Designer's touch at James Ferreira's house. Photo Courtesy - Ethel Misquitta

The Designer’s touch at James Ferreira’s house. Photo Courtesy – Ethel Misquitta

But every beauty has its share of shortcomings, so does Khotachiwadi. Like every other old structure, the wood works and other aspects of the village have to be extremely taken care of and protected by insects and various other elements of nature. “A lot of changes and alterations have been made in the past few years. Construction, honkings, nuisance, and disturbances have started coming in the picture which in turn led to a  number of Catholics moving out and flying to The States, Middle East, Australia and New Zealand for better opportunities” says Willy.

One of the by lanes of Khotachiwadi. Photo Courtesy -Ethel Misquitta

One of the by lanes of Khotachiwadi. Photo Courtesy -Ethel Misquitta

Although being sad over the fact of his fellow residents moving out and the number of alterations being made, Willy never fails to do his  best bit to keep alive the tradition and spirit of his lovely land. He teaches and plays music to the kids especially during Christmas and other such functions.

Portugese style house in Khotachiwadi

Portuguese style house in Khotachiwadi

Moving further, I came across the house of James Ferreira (No. 47G)  – a life-long resident and a much-celebrated fashion designer. I would like to stop for a moment to purely appreciate his excellence in taste and designing skills. James’s 200 years old house is an epitome of rich Portugal heritage and gorgeous relaxed vibe. “All these are colonial artifacts which I have been collecting since over fifty years,” remarked James. He is also an active member of the workings of Khotachiwadi and stays deeply humbled with his majestic house.

A Portugese style house in Khotachiwadi

A Portugese style house in Khotachiwadi

Khotachiwadi hence has become a prime example of cultural and social development and a bridge between western and traditional ideologies. Apart from this, a rather important factor which is prevalent here is the strong sense of unity amongst the distinct communities of the village.

A lane in Khotachiwadi. Photo Courtesy - Ethel Misquitta

A lane in Khotachiwadi. Photo Courtesy – Ethel Misquitta

Bridget Misquitta is yet another resident of the settlement and a lady extravagantly warm in her manners. She says, “The most important feature of Khotachiwadi is the heritage homes and many such constructions. However, recently, it is nothing less than a task to maintain these houses. Taking care of them is becoming more and more difficult due to which a lot of houses are being sold and owners are increasingly moving out.” Inspite of all the inconvenience, residents of Khotachiwadi are always on the look out for getting together, says Bridget. “We get together during festivals, church service, for Christmas fairs and bazaars and many other events apart from these. People are always found by your side, come what may. You are never alone in Khotachiwadi,” says Bridget, joyfully.

Photo Courtesy - Ethel Misquitta

Photo Courtesy – Ethel Misquitta

From the city’s increasingly volatile blitz and glam to the rapid developments and hum-drums, there lies a village blissfully resting in its southern lap, challenging its own odds and sailing through rough waters to remain the work of heavenly wonder that it is. Khotachiwadi hence has been grandly inscribed in the hearts of folks which is a reason enough to believe that its spirit will live forever and beyond.

A little suburban woman aspiring to provide the world with strong journalistic and anthropological content. Forever looking for that tenuous grind and delving deeper into the beautiful complexities of life, I strive. I go on. And on.

College Events

Project Zaraat by Enactus DCAC

Published

on

By

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Farmers form the backbone of the Indian Economy, making up more than 40% of the workforce. However, every day 28 people dependent on farming commit suicide—the post-harvest losses in the country amount to over 93,000 crores per year. The loss of 93,000 crores constitutes approximately 40% of the country’s total produce. This occurs due to the perishable nature of agricultural produce, which often forces farmers to sell their produce at the prevailing market price, be it high or low, thereby resulting in a loss of bargaining power.

Addressing this issue through the positive power of social entrepreneurship, Enactus DCAC, an international not for profit student body organisation, initiated Project Zaraat for the upliftment of the farming community. The mission of Project Zaraat is to minimise post-harvest losses and enhance forward linkages through a self-sustaining social enterprise.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Under the mentorship and guidance of Michigan State University and the Indian Agricultural Research Institute, Zaraat provides the farmers with a unique storage solution that works on the principle of evaporative cooling. It is affordable, portable, and eco-friendly, making it different from conventional storage facilities. Moreover, this solution increases the shelf life of the produce by upto ten days, ensuring that the quality of produce does not deteriorate. Apart from this, they also aim to partner with various B2B aggregators to ensure a rise in income for the farmers and provide them with payment security.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Currently, they are in the process of integrating farmers into an FPO to ensure collective bargaining power. They are also exploring sustainable agriculture practices that are vital in a climate constrained world.

Project Zaraat is a recipient of the KPMG Ethics Grant and also received a Special Mention at the Enactus Early Stage National Competition 2021.

Building on this by the end of the year, they aim to sustain the lives of 100 farmers by providing them with an income boost of 25%, reduce post-harvest losses by a whopping 60%, and minimise the energy consumption by 20%. For more information, visit www.enactusdcac.com.

Continue Reading

Featured

हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य की मौत

Published

on

General Bipin Rawat

तमिलनाडु के कन्नूर में वायुसेना के हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 11 अन्य लोगों का निधन हो गया है। सीडीएस बिपिन रावत सेना के Mi-17V5 हेलिकॉप्टर कोयंबटूर के सुलूर एयरबेस से वेलिंगटन की ओर जा रहे थे, जहां कॉलेज के एक कार्यक्रम में उन्हें हिस्सा लेना था। हेलिकॉप्टर सुलूर से वेलिंगटन की ओर जाते समय कुन्नूर में क्रैश हुआ। सीडीएस बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर नीलगिरी के जंगलों में दुर्घटनाग्रस्त हुआ, इस इलाके को टी एस्टेट भी कहा जाता है। वायुसेना के हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जनरल रावत को घायल अवस्था में अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। वायुसेना ने ट्वीट करते हुऐ इस बात की पुष्टि की है। वायुसेना की जानकारी के अनुसार 14 में से 13 लोगों की मौत हो चुकी है और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का अस्पताल में इलाज चल रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि दुर्घटना कोहरे की स्थिति के चलते साफ न दिखाई देने के कारण हुई है। वायुसेना ने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

जिस हेलिकॉप्टर में जनरल रावत सवार थे वह हेलीकॉप्टर एमआई सीरीज का था। Mi-17V5 हेलिकॉप्टर में दो इंजन होते हैं और इसे वीआईपी चॉपर कहा जाता है। काफी लंबे समय से वायुसेना इसका इस्तेमाल करती आई है। यदि कहीं हवाई पट्टी की सुविधा उपलब्ध नहीं होती तो वहां पर वीआईपी मूवमेंट इसी हेलीकॉप्टर के जरिए होता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई नेताओं और अभिनेताओं ने जनरल रावत के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विट करते हुए कहा “तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर दुर्घटना से मैं बहुत दुखी हूं, जिसमें हमने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों को खो दिया है। उन्होंने अत्यंत परिश्रम के साथ भारत की सेवा की। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।

जहां जनरल रावत के निधन पर पूरा देश शोक व्यक्त कर रहा हैं वहीं सेवानिवृत्त सेना अधिकारी कर्नल बलजीत बख्शी ने संवेदनहीनता भरा ट्वीट किया जिसमे उन्होंने कहा, “कर्म का लोगों से निपटने का अपना तरीका है।” हालांकि लोगों की कड़ी निंदा के बाद उन्होंने अपने अकाउंट से ट्वीट को डिलीट कर दिया।

इतिहास:

चीफ डिफेंस ऑफ़ स्टाफ विपिन रावत का जन्म उत्तराखंड के पौरी गढ़वाल जिले में हुआ था। लम्बे समय तक फ़ौज में रहने के दौरान जनरल रावत को सेना के प्रमुख सम्मानों से सम्मानित किया गया था। 16 दिसंबर 1978, में जनरल रावत पहली बार मिजोरम के 11वीं गोरखा रायफल की 5वीं बटालियन में कमीशन पर शामिल हुए थे।

जनरल रावत के पिता भी इस यूनिट का हिस्सा थे। उन्होंने अपने पिता से युद्धनीति सीखी, जिनका आगे जंग में उन्होंने भरपूर इस्तेमाल किया। भारत-चीन युद्ध के दौरान जनरल रावत ने मोर्चा संभाला था। इस दौरान उन्होंने नार्थ ईस्ट फ्रॉन्टियर एजेंसी बटालियन की कमान संभाली थी। इसके अलावा उन्होंने कांगो में संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग फोर्स की भी अगुवाई की। चीन से जंग के दौरान भी जनरल रावत ने बहादुरी का परिचय दिया था। वर्ष 1962 में मैकमोहन रेखा पर गतिरोध को लेकर जनरल रावत ने पहली बार चीन से लोहा लिया और बहादुरी से उन्हें रोके रखा। जम्मू-कश्मीर में शांति कायम करने के लिए उन्होंने एक कंपनी की कमान संभाली और वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के अलावा पूर्वी सेक्टर पर पांचवीं बटालियन 11 गोरखा राइफल्स की कमान भी उन्होंने संभाली थी। 1 सितंबर, 2016 को जनरल रावत ने सेना के उप-प्रमुख का पद संभाला और 31 दिसंबर 2016 को सेना चीफ का पद पर अधिकृत थे। उनकी कार्य कुशलता और अनुभव को देखते हुए भारत सरकार ने 1 जनवरी 2020 में जनरल रावत को तीनों सेना का प्रमुख यानी चीफ डिफेन्स ऑफ़ स्टाफ बनाया।

सेना में रहते हुए उन्हें अब तक परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक, सेना पदक, विशिष्ट सेवा पदक से भी सम्मानित किया गया।

Continue Reading

Corona

ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते भारत में स्थगित हुई अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा

Published

on

Omicron | News Aur Chai | International Flight Ban

कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण भारत में पूर्व निर्धारित अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं रोक दी गई हैं। सरकार की तरफ से पहले यह फैसला किया गया था कि 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को शुरू किया जाएगा। लेकिन ओमिक्रोन के खतरे को मद्दे नज़र रखते हुए अब इस फैसले को टाल दिया गया है। यानी अब भारत में 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू नहीं हो पाएंगी। डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन की तरफ से कहा गया है कि वो अपने पूर्व के फैसले पर पुनर्विचार करेगें।

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 नवंबर को ओमिक्रॉन को लेकर बैठक की थी और इसी दौरान 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा गया था। प्रधानमंत्री ने विदेश से आने वाले लोगों की सख्त निगरानी करने की बात भी कही थी। ओमिक्रॉन के चलते हाल ही में सिक्किम ने विदेशी यात्रियों के आने-जाने पर रोक लगा दी है।

पिछले वर्ष कोरोना के चलते एहतियातन देश में नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई थी। हालांकि कुछ समय बाद कई देशों के साथ सीमित हवाई सेवा शुरू कर दी गई थी। ऐसा माना जा रहा था की इस बार क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों के मौके पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू कर दी जाएंगी लेकीन, दक्षिण अफ्रीका में पाए गए ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण अभी इस पर ब्रेक लगता दिख रहा है।

कई देशों में इस खतरनाक वैरिएंट को लेकर गाइडलाइंस जारी कर दी गई हैं, और इससे बचने के लिए अनेकों ऐ‍हतियात बरते जा रहे है। WHO ने इसे ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’, यानि चिंताजनक घोषित किया है।

जनरल वीके सिंह ने सोमवार को कहा था कि “अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने के लिए हम पर जनता का जबरदस्त दबाव है”। हम सभी नियमों का पालन कर रहे हैं और सावधानी बरत रहे हैं। बाहर से आने वाले हर व्यक्ति का परीक्षण और जांच हवाई अड्डे पर किया जा रहा है। परिणामों को देखने के बाद ही, उन्हें अनुमति दी जा रही है।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए हैं। इन दिशानिर्देशों के तहत अब यात्रियों को 14 दिन की यात्रा जानकारी और कोरोना वायरस की निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार खतरे की श्रेणी में आने वाले देशों के यात्रियों को भारत पहुंचने पर कोरोना जांच करवानी होगी और जांच का परिणाम आने तक एयरपोर्ट पर ही इंतजार करना होगा। अगर उनकी जांच निगेटिव आती है तो उन्हें सात दिन तक होम क्वारंटीन में रहना होगा और आठवें दिन फिर जांच की जाएगी। इस बार भी निगेटिव आने पर उन्हें अगले सात दिन के लिए खुद अपने स्वास्थ्य पर नजर रखने को कहा जाएगा।

कोरोना वायरस का नया वैरियंट ओमीक्रोन भारत में भी दस्तक दे चुका है। साथ ही साथ ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बोत्सवाना, ब्राजील, कनाडा, चेक गणराज्य, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, घाना, हांगकांग, आयरलैंड, इजराइल, इटली, जापान, मोजाम्बिक, नीदरलैंड, नाइजीरिया, नॉर्वे, पुर्तगाल, रीयूनियन द्वीपसमूह, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, स्विटजरलैंड, यूएई, ब्रिटेन और अमेरिका भी ओमीक्रोन के गिरफ्त में आ चुके हैं।

Continue Reading

Most Popular