Connect with us

Featured

Fate Of West Bengal: TMC’s Regionalism Or BJP’s Gujrat Model?

Published

on

BJP TMC Bengal Election

The political dynamics of West Bengal depends upon the 2021 assembly election, making it one of the most crucial election. Bhartiya Janta Party’s success in Bihar after cut-throat opposition competition, could also impact West Bengal’s future course. Trinamool Congress’s and West Bengal CM Mamta Banarjee is trying every means to protect power from the clutches of ever-growing BJP by resorting to the traditional regionalism tactic.

Mamta Banerjee has a strong position in West Bengal since 2011. Uncertainty mounts as major parties throw arrows and verbal remarks in electoral campaign.

The political structure of the State will see a unique turn as many political analysts look at the 2021 elections as a battle between Nationalism and Regionalism which is observed as the underlying themes of BJP and TMC respectively.

Regionalism, in its essence, has been a threat to nationalism. Still, at the same time, it helps the State to protect its ethnic and cultural identity and occasionally leads to economic development. Regionalism is a common political tactic used in every country to protect and mobilize aspiration of people.

BJP’S Gujrat Model and Hindutva wave:

Gujrat Model, is essentially, a decade from 2002-2012, when the State experienced quantum growth in terms of economic activities by then CM Narendra Modi. Thus, the model is widely used by BJP in terms of influencing other states and has a significant role in the big win of the 2014 General elections.

West Bengal BJP chief Dilip Ghosh urged voters to elect BJP to power and enable them to emulate Gujarat growth model in the State. In Mr Ghosh’s words “Give us a chance so we could change this scenario in Bengal and turn the state into a business and industry hub like Gujarat, so youths don’t have to look for jobs elsewhere.”

BJP’s new slogan “Ebar Bangla Parle Sambhla” (Bengal, save if you can). The slogan indicates imperialist view of BJP after gaining momentum in Bihar. To reply, Mamta Banarjee coined “Duare Sarkar” for its governmental policies which will be provided on “doorsteps.”

With more leaders from Delhi approaching West Bengal for electoral campaign, TMC MP Saugata Roy said to The wire “BJP is parachuting its Delhi leaders in, to control Bengal. This clearly shows they don’t trust their Bengal leaders.”

BJP cleverly refute outsider tag given by TMC and connects with the people by providing example of Rabindranath Tagore, Bankim Chandra Chatterjee and Swami Vivekananda. Using historical factor, BJP is luring West Bengal.

Digs at West Bengal’s law and order and development:

The BJP profoundly pointed out that the students from West Bengal, who once were seen dominating the civil services examination, now do not feature in the merit list. The party pushed the blame upon the Left Front government for the sudden downfall in the education sector.

Mr Ghosh said “Biman babu (the Left Front chairman Biman Bose) and Buddha Babu (former Chief Minister Buddhadeb Bhattacharjee) have successfully politicized the people in a way that we now produce migrant workers who move to Gujarat for menial work, and not doctors, engineers or professors.”

Raju Banerjee, vice-chief, Bharatiya Janata Party’s (BJP) West Bengal unit said: “Over time, the meaning of TMC kept changing, it has now become a Terrorist Manufacturing Company.”

Mr Ghosh took a dig at the law-and-order and commented “The other day six Al-Qaeda terrorists were arrested from Aipurduar (in North Bengal). A network has been formed in several places of the State. Even Bangladesh leader Khaleda Zia has said the terrorists are being trained in India and sent to Bangladesh to create disturbance. This State has become a centre of terrorists, and anti-nationals. They are coming here from other places and taking shelter. The situation of Bengal is now worse than Kashmir.”

TMC’S regionalism and outsider label to BJP:

TMC is smart enough to instil Bengali Pride and use regionalism to counter back BJP’s growing influence. After the appointment of Bengal’s governor by Centre and political chaos in the State, Mamta Banarjee said “Why should Gujarat rule all states? What’s the need for a federal structure?”

She and TMC further labelled BJP as an outsider and commented “People of Bengal will rule the state and not outsiders and people from Gujarat.”

In response to Gujrat Model, the TMC leadership didn’t fail to remind the BJP of the communal violence and atrocities against minorities in Gujarat in 2002.

West Bengal’s Urban Development Minister Firhad Hakim said: “People of Bengal are living in peace and they (BJP) want the State to be Gujarat.”

Mr Hakim further commented “Over 2,000 people were killed and encounter deaths of people like Ishrat Jahan have occurred. If Bengal is turned into Gujarat or U.P., then here, too, people will get killed in encounters. We want our State to remain the way it is.”

Mr Hakim reacted to Mr Ghosh’s assertion that Tata Motors small car production was set up in Sanand of Gujrat after being moved out from Singur, West Bengal, “the Tata Nano factory which was set up in Gujarat has closed down, while the MSME sector in West Bengal is making good progress. In Gujarat only a few industrialists are given preference.”

BJP’s plan to gain the confidence of the voters is unique to the kind exhibited by the saffron party previously. BJP has moved from Hindutva to focusing on development issues in the electoral campaign. However, leadership becomes vital to West Bengal as the party lacks a strong face.

As a regional party, TMC must focus on the ground level development and the burning issues like that of employment, education, healthcare etc., to have an impact on people. TMC has to go beyond regionalism argument for running a majority.

Though the BJP lacks a strong face of the party in Bengal but it has higher aspirations this time. On the other hand, TMC is rooting for regionalism in terms of language, culture and tradition of West Bengal, which gives TMC an upper hand. At the same time, it discredits the non-locals as outsiders who will set the State ablaze if they came in power in their opinion.

In the words of Professor Ajay Gudavarthy “In the upcoming election in West Bengal, the likely binary would be ‘outsider’s development’ versus ‘insider’s culture.’’

A girl with aspirations and desires skyrocketing yet likes to keep it lowkey—also a political enthusiast with the zest of bringing a change. I always like to be indulged in good conversations with a hot cup of coffee. I am an avid reader with a habit of binge-watching movies and shows.

College Events

Project Zaraat by Enactus DCAC

Published

on

By

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Farmers form the backbone of the Indian Economy, making up more than 40% of the workforce. However, every day 28 people dependent on farming commit suicide—the post-harvest losses in the country amount to over 93,000 crores per year. The loss of 93,000 crores constitutes approximately 40% of the country’s total produce. This occurs due to the perishable nature of agricultural produce, which often forces farmers to sell their produce at the prevailing market price, be it high or low, thereby resulting in a loss of bargaining power.

Addressing this issue through the positive power of social entrepreneurship, Enactus DCAC, an international not for profit student body organisation, initiated Project Zaraat for the upliftment of the farming community. The mission of Project Zaraat is to minimise post-harvest losses and enhance forward linkages through a self-sustaining social enterprise.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Under the mentorship and guidance of Michigan State University and the Indian Agricultural Research Institute, Zaraat provides the farmers with a unique storage solution that works on the principle of evaporative cooling. It is affordable, portable, and eco-friendly, making it different from conventional storage facilities. Moreover, this solution increases the shelf life of the produce by upto ten days, ensuring that the quality of produce does not deteriorate. Apart from this, they also aim to partner with various B2B aggregators to ensure a rise in income for the farmers and provide them with payment security.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Currently, they are in the process of integrating farmers into an FPO to ensure collective bargaining power. They are also exploring sustainable agriculture practices that are vital in a climate constrained world.

Project Zaraat is a recipient of the KPMG Ethics Grant and also received a Special Mention at the Enactus Early Stage National Competition 2021.

Building on this by the end of the year, they aim to sustain the lives of 100 farmers by providing them with an income boost of 25%, reduce post-harvest losses by a whopping 60%, and minimise the energy consumption by 20%. For more information, visit www.enactusdcac.com.

Continue Reading

Hindi

हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य की मौत

Published

on

General Bipin Rawat

तमिलनाडु के कन्नूर में वायुसेना के हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 11 अन्य लोगों का निधन हो गया है। सीडीएस बिपिन रावत सेना के Mi-17V5 हेलिकॉप्टर कोयंबटूर के सुलूर एयरबेस से वेलिंगटन की ओर जा रहे थे, जहां कॉलेज के एक कार्यक्रम में उन्हें हिस्सा लेना था। हेलिकॉप्टर सुलूर से वेलिंगटन की ओर जाते समय कुन्नूर में क्रैश हुआ। सीडीएस बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर नीलगिरी के जंगलों में दुर्घटनाग्रस्त हुआ, इस इलाके को टी एस्टेट भी कहा जाता है। वायुसेना के हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जनरल रावत को घायल अवस्था में अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। वायुसेना ने ट्वीट करते हुऐ इस बात की पुष्टि की है। वायुसेना की जानकारी के अनुसार 14 में से 13 लोगों की मौत हो चुकी है और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का अस्पताल में इलाज चल रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि दुर्घटना कोहरे की स्थिति के चलते साफ न दिखाई देने के कारण हुई है। वायुसेना ने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

जिस हेलिकॉप्टर में जनरल रावत सवार थे वह हेलीकॉप्टर एमआई सीरीज का था। Mi-17V5 हेलिकॉप्टर में दो इंजन होते हैं और इसे वीआईपी चॉपर कहा जाता है। काफी लंबे समय से वायुसेना इसका इस्तेमाल करती आई है। यदि कहीं हवाई पट्टी की सुविधा उपलब्ध नहीं होती तो वहां पर वीआईपी मूवमेंट इसी हेलीकॉप्टर के जरिए होता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई नेताओं और अभिनेताओं ने जनरल रावत के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विट करते हुए कहा “तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर दुर्घटना से मैं बहुत दुखी हूं, जिसमें हमने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों को खो दिया है। उन्होंने अत्यंत परिश्रम के साथ भारत की सेवा की। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।

जहां जनरल रावत के निधन पर पूरा देश शोक व्यक्त कर रहा हैं वहीं सेवानिवृत्त सेना अधिकारी कर्नल बलजीत बख्शी ने संवेदनहीनता भरा ट्वीट किया जिसमे उन्होंने कहा, “कर्म का लोगों से निपटने का अपना तरीका है।” हालांकि लोगों की कड़ी निंदा के बाद उन्होंने अपने अकाउंट से ट्वीट को डिलीट कर दिया।

इतिहास:

चीफ डिफेंस ऑफ़ स्टाफ विपिन रावत का जन्म उत्तराखंड के पौरी गढ़वाल जिले में हुआ था। लम्बे समय तक फ़ौज में रहने के दौरान जनरल रावत को सेना के प्रमुख सम्मानों से सम्मानित किया गया था। 16 दिसंबर 1978, में जनरल रावत पहली बार मिजोरम के 11वीं गोरखा रायफल की 5वीं बटालियन में कमीशन पर शामिल हुए थे।

जनरल रावत के पिता भी इस यूनिट का हिस्सा थे। उन्होंने अपने पिता से युद्धनीति सीखी, जिनका आगे जंग में उन्होंने भरपूर इस्तेमाल किया। भारत-चीन युद्ध के दौरान जनरल रावत ने मोर्चा संभाला था। इस दौरान उन्होंने नार्थ ईस्ट फ्रॉन्टियर एजेंसी बटालियन की कमान संभाली थी। इसके अलावा उन्होंने कांगो में संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग फोर्स की भी अगुवाई की। चीन से जंग के दौरान भी जनरल रावत ने बहादुरी का परिचय दिया था। वर्ष 1962 में मैकमोहन रेखा पर गतिरोध को लेकर जनरल रावत ने पहली बार चीन से लोहा लिया और बहादुरी से उन्हें रोके रखा। जम्मू-कश्मीर में शांति कायम करने के लिए उन्होंने एक कंपनी की कमान संभाली और वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के अलावा पूर्वी सेक्टर पर पांचवीं बटालियन 11 गोरखा राइफल्स की कमान भी उन्होंने संभाली थी। 1 सितंबर, 2016 को जनरल रावत ने सेना के उप-प्रमुख का पद संभाला और 31 दिसंबर 2016 को सेना चीफ का पद पर अधिकृत थे। उनकी कार्य कुशलता और अनुभव को देखते हुए भारत सरकार ने 1 जनवरी 2020 में जनरल रावत को तीनों सेना का प्रमुख यानी चीफ डिफेन्स ऑफ़ स्टाफ बनाया।

सेना में रहते हुए उन्हें अब तक परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक, सेना पदक, विशिष्ट सेवा पदक से भी सम्मानित किया गया।

Continue Reading

Corona

ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते भारत में स्थगित हुई अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा

Published

on

Omicron | News Aur Chai | International Flight Ban

कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण भारत में पूर्व निर्धारित अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं रोक दी गई हैं। सरकार की तरफ से पहले यह फैसला किया गया था कि 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को शुरू किया जाएगा। लेकिन ओमिक्रोन के खतरे को मद्दे नज़र रखते हुए अब इस फैसले को टाल दिया गया है। यानी अब भारत में 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू नहीं हो पाएंगी। डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन की तरफ से कहा गया है कि वो अपने पूर्व के फैसले पर पुनर्विचार करेगें।

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 नवंबर को ओमिक्रॉन को लेकर बैठक की थी और इसी दौरान 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा गया था। प्रधानमंत्री ने विदेश से आने वाले लोगों की सख्त निगरानी करने की बात भी कही थी। ओमिक्रॉन के चलते हाल ही में सिक्किम ने विदेशी यात्रियों के आने-जाने पर रोक लगा दी है।

पिछले वर्ष कोरोना के चलते एहतियातन देश में नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई थी। हालांकि कुछ समय बाद कई देशों के साथ सीमित हवाई सेवा शुरू कर दी गई थी। ऐसा माना जा रहा था की इस बार क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों के मौके पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू कर दी जाएंगी लेकीन, दक्षिण अफ्रीका में पाए गए ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण अभी इस पर ब्रेक लगता दिख रहा है।

कई देशों में इस खतरनाक वैरिएंट को लेकर गाइडलाइंस जारी कर दी गई हैं, और इससे बचने के लिए अनेकों ऐ‍हतियात बरते जा रहे है। WHO ने इसे ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’, यानि चिंताजनक घोषित किया है।

जनरल वीके सिंह ने सोमवार को कहा था कि “अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने के लिए हम पर जनता का जबरदस्त दबाव है”। हम सभी नियमों का पालन कर रहे हैं और सावधानी बरत रहे हैं। बाहर से आने वाले हर व्यक्ति का परीक्षण और जांच हवाई अड्डे पर किया जा रहा है। परिणामों को देखने के बाद ही, उन्हें अनुमति दी जा रही है।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए हैं। इन दिशानिर्देशों के तहत अब यात्रियों को 14 दिन की यात्रा जानकारी और कोरोना वायरस की निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार खतरे की श्रेणी में आने वाले देशों के यात्रियों को भारत पहुंचने पर कोरोना जांच करवानी होगी और जांच का परिणाम आने तक एयरपोर्ट पर ही इंतजार करना होगा। अगर उनकी जांच निगेटिव आती है तो उन्हें सात दिन तक होम क्वारंटीन में रहना होगा और आठवें दिन फिर जांच की जाएगी। इस बार भी निगेटिव आने पर उन्हें अगले सात दिन के लिए खुद अपने स्वास्थ्य पर नजर रखने को कहा जाएगा।

कोरोना वायरस का नया वैरियंट ओमीक्रोन भारत में भी दस्तक दे चुका है। साथ ही साथ ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बोत्सवाना, ब्राजील, कनाडा, चेक गणराज्य, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, घाना, हांगकांग, आयरलैंड, इजराइल, इटली, जापान, मोजाम्बिक, नीदरलैंड, नाइजीरिया, नॉर्वे, पुर्तगाल, रीयूनियन द्वीपसमूह, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, स्विटजरलैंड, यूएई, ब्रिटेन और अमेरिका भी ओमीक्रोन के गिरफ्त में आ चुके हैं।

Continue Reading

Most Popular