Connect with us

Featured

Opening Soon Delhi – Mumbai Expressway

Published

on

Delhi Mumbai Expressway | News Aur Chai

One of the most anticipated projects of India is back in action after the Covid slowdown. The Delhi-Mumbai Expressway has been in the development plan of the Government since March 2019.

This 1350 kilometres expressway will add to the glory of the Golden Quadrilateral, which connects four major metro cities of India; Delhi, Mumbai, Kolkata, and Chennai. The project was primarily issued by the Union Ministers, Nitin Gadkari- Minister for Road Transport & Highways, and Sushma Swaraj: Former Minister of External Affairs, and Arun Jaitley: Former Minister of Finance. The expressway is planned to have an eight lane-system and aims to be developed into a 12 lane-system in the future. The Government’s estimated budget has been drawn with the help of the National Highways of India (NHAI), which is 1-lakh crore rupees.

The project includes the construction of three major greenfield expressways: the (1350 km) Delhi-Mumbai stretch, (300 km) Ambala-Kotpulti, and lastly, Amritsar-Jamnagar stretch, which is 1000km. Out of which the top priorities of the NHAI are the Delhi- Mumbai Expressway and the Ambala-Kotpulti stretch and has estimated its completion by March 2022.

Minister for Road Transport & Highways, Nitin Gadkari, assured that the Delhi-Mumbai Expressway would be functioning by December 2021 and entirely completed by 2023. The Government has divided the expressway into 44 packages, out of which 38 packages have already been assigned work and are in momentum towards completion.

Over two years, The Delhi-Mumbai Expressway has been constantly observed for changes and improvements to better the project. The Government emerged with somewhat effective measures to connect these two metropolitan cities. The project’s primary aims were to ease connectivity between the two cities, and the essential part was time management. The main concerns of the NHAI were to ease the traffic on National Highway 48(NH 48). The congestion of entry and exit points creates discomfort for the travellers, which became the new Delhi-Mumbai Expressway’s primary aim to clear out that corridor as much as possible.

To Get The Utmost Results, When It Comes To The Travel Time Following Were The Measures Taken By The NHAI And The Ministry For Road Transport & Highways:

  • The Delhi-Mumbai Expressway will have controlled access, which provides an unhindered traffic flow, which has no traffic signals, intersection points, or property access. This will result in NH48 being a single lane or dual carriage corridor at some places.
  • The expressway begins at Sohna in Gurgaon, Haryana, and ends at Mira-Bhayander in Mumbai, provided two extensions on both sides of the expressway. Connecting Sarai Kale Khan in Delhi at 60 kilometres and Jawaharlal Nehru Port Trust in Mumbai at 90 kilometres to the Virar corridor.
  • The route that follows the expressway passes through Gurgaon, Haryana, Rajasthan, Madhya Pradesh, Gujrat, and then later the Vadodara-Gujrat corridor will run parallel to the NH48 until Mira-Bhayandar.
  • The state travel distance calculation will be Haryana- (80 km), Rajasthan-(380km), Madhya Pradesh-(370km), Gujrat-(300km), and Maharashtra-(120km); thus, the distance is decreased by 150 kilometres in total which makes the travel time approximately 12 hours.
  • Because of this route, the travellers also save their fuel cost. It’s environmentally effective because the Government calculated the amount of fuel which rounds about 32,00,00,000 litres saved every year, which adversely accounts for less pollution in the given zone.

The administration of the expressway depends entirely on how effective the finances are spread out across the project’s construction. Initially, the total expenditure of 1 lakh crore was broken off into 60,00 crore for construction and 40,000 crores for land permits and acquisitions. As the project’s discussion extends, the Government lets out the financial details for public knowledge and understanding.

The Financial Breakdown Of The Delhi-Mumbai Expressway:

  • The corridor planned for the Delhi-Varodara stretch has now emerged into the Delhi-Mumbai Expressway under the Bharat Mala Pariyojana. The Delhi-Vorodara corridor has been declared to be built in the Hybrid Annuity Model. The bifurcation is listed as 40% of the costs will beared by the Government, and the Contractors will bear 60%. After the expressway is completed the contractors are given a fixed rate of compensation yearly to contribute to the project.
  • The more significant funds for the project have been drawn in by the State Bank of India, which has agreed to contribute 5000 crore rupees to the expressway.
  • There are also clubbed investors under the Special Purpose Vehicles (SPV), including Punjab National Bank, Bank of Maharashtra, and Axis Bank.
  • Recently, The NHAI and the SPV and Delhi-Mumbai Expressway (DME) developers have managed to raise 9,731crores to part-fund the greenfield expressway.
  • After calculating the expressway expenditure, the DME developers have assured that this particular expressway has the economic potential of 50,000-80,000 crores, which can be collected through toll plazas.
  • The fact that the route that the expressway follows largely is spread over an urbanized area leading to high land acquisition cost, and since the project is under Hybrid Annuity Model which means that the construction of roads in the region are constructed by renewing the interest of private developers in highway projects which will thus help the Government save 16,000 crores due to the new alignment of the expressway.

While considering the expenditure, administration of the project, Minister for Road Transport & Highways Nitin Gadkari, in his Lok Sabha session on 25th March 2021, hinted towards the ecological thrust that he wants the project to achieve the ideal project of the country.

He said that the Ministry for Road Transport & Highways is planning to construct a special ‘Electronic Highway’ (E-Highway) on the expressway so the heavy carriers like trucks and buses can also run at the speed of 120kph (Kilometer per Hour) and bring the logistics down of the project by 70 per cent in total. The Ministry was influenced and inspired by the Siemens technology of E-Highways in Germany. Introduced in Germany in 2019, where the system is attached and controlled by cable suspenders being attached on the highway, specially equipped trucks can draw power for an electric motor similar to how electric trains operate and recharge their power the go. This would also help the trucks and buses during accidents to stop as the power is automatically shut down and the vehicle comes to a halt.

Nitin Gadkari stressed that this technology could help generate the environmental awareness and precautions we need today. Germany was able to reduce its carbon emissions and took a step towards energy consumptions. But at the end of his proposition, he clarified that the final decision is yet to be taken on the given issue.

 

Final Year student of Mass Communication with a special interest in the field of journalism. An aspiring feature journalist with a fueling passion for travel, culture, lifestyle, music, and food. I believe in bringing out the undiscovered and have a willingness to work hard and go beyond the comfort zone to get the work done. Music and Culture are the beats that get me going and inspires me to try and be the best version of myself.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

College Events

Project Zaraat by Enactus DCAC

Published

on

By

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Farmers form the backbone of the Indian Economy, making up more than 40% of the workforce. However, every day 28 people dependent on farming commit suicide—the post-harvest losses in the country amount to over 93,000 crores per year. The loss of 93,000 crores constitutes approximately 40% of the country’s total produce. This occurs due to the perishable nature of agricultural produce, which often forces farmers to sell their produce at the prevailing market price, be it high or low, thereby resulting in a loss of bargaining power.

Addressing this issue through the positive power of social entrepreneurship, Enactus DCAC, an international not for profit student body organisation, initiated Project Zaraat for the upliftment of the farming community. The mission of Project Zaraat is to minimise post-harvest losses and enhance forward linkages through a self-sustaining social enterprise.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Under the mentorship and guidance of Michigan State University and the Indian Agricultural Research Institute, Zaraat provides the farmers with a unique storage solution that works on the principle of evaporative cooling. It is affordable, portable, and eco-friendly, making it different from conventional storage facilities. Moreover, this solution increases the shelf life of the produce by upto ten days, ensuring that the quality of produce does not deteriorate. Apart from this, they also aim to partner with various B2B aggregators to ensure a rise in income for the farmers and provide them with payment security.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Currently, they are in the process of integrating farmers into an FPO to ensure collective bargaining power. They are also exploring sustainable agriculture practices that are vital in a climate constrained world.

Project Zaraat is a recipient of the KPMG Ethics Grant and also received a Special Mention at the Enactus Early Stage National Competition 2021.

Building on this by the end of the year, they aim to sustain the lives of 100 farmers by providing them with an income boost of 25%, reduce post-harvest losses by a whopping 60%, and minimise the energy consumption by 20%. For more information, visit www.enactusdcac.com.

Continue Reading

Featured

हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य की मौत

Published

on

General Bipin Rawat

तमिलनाडु के कन्नूर में वायुसेना के हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 11 अन्य लोगों का निधन हो गया है। सीडीएस बिपिन रावत सेना के Mi-17V5 हेलिकॉप्टर कोयंबटूर के सुलूर एयरबेस से वेलिंगटन की ओर जा रहे थे, जहां कॉलेज के एक कार्यक्रम में उन्हें हिस्सा लेना था। हेलिकॉप्टर सुलूर से वेलिंगटन की ओर जाते समय कुन्नूर में क्रैश हुआ। सीडीएस बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर नीलगिरी के जंगलों में दुर्घटनाग्रस्त हुआ, इस इलाके को टी एस्टेट भी कहा जाता है। वायुसेना के हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जनरल रावत को घायल अवस्था में अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। वायुसेना ने ट्वीट करते हुऐ इस बात की पुष्टि की है। वायुसेना की जानकारी के अनुसार 14 में से 13 लोगों की मौत हो चुकी है और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का अस्पताल में इलाज चल रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि दुर्घटना कोहरे की स्थिति के चलते साफ न दिखाई देने के कारण हुई है। वायुसेना ने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

जिस हेलिकॉप्टर में जनरल रावत सवार थे वह हेलीकॉप्टर एमआई सीरीज का था। Mi-17V5 हेलिकॉप्टर में दो इंजन होते हैं और इसे वीआईपी चॉपर कहा जाता है। काफी लंबे समय से वायुसेना इसका इस्तेमाल करती आई है। यदि कहीं हवाई पट्टी की सुविधा उपलब्ध नहीं होती तो वहां पर वीआईपी मूवमेंट इसी हेलीकॉप्टर के जरिए होता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई नेताओं और अभिनेताओं ने जनरल रावत के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विट करते हुए कहा “तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर दुर्घटना से मैं बहुत दुखी हूं, जिसमें हमने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों को खो दिया है। उन्होंने अत्यंत परिश्रम के साथ भारत की सेवा की। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।

जहां जनरल रावत के निधन पर पूरा देश शोक व्यक्त कर रहा हैं वहीं सेवानिवृत्त सेना अधिकारी कर्नल बलजीत बख्शी ने संवेदनहीनता भरा ट्वीट किया जिसमे उन्होंने कहा, “कर्म का लोगों से निपटने का अपना तरीका है।” हालांकि लोगों की कड़ी निंदा के बाद उन्होंने अपने अकाउंट से ट्वीट को डिलीट कर दिया।

इतिहास:

चीफ डिफेंस ऑफ़ स्टाफ विपिन रावत का जन्म उत्तराखंड के पौरी गढ़वाल जिले में हुआ था। लम्बे समय तक फ़ौज में रहने के दौरान जनरल रावत को सेना के प्रमुख सम्मानों से सम्मानित किया गया था। 16 दिसंबर 1978, में जनरल रावत पहली बार मिजोरम के 11वीं गोरखा रायफल की 5वीं बटालियन में कमीशन पर शामिल हुए थे।

जनरल रावत के पिता भी इस यूनिट का हिस्सा थे। उन्होंने अपने पिता से युद्धनीति सीखी, जिनका आगे जंग में उन्होंने भरपूर इस्तेमाल किया। भारत-चीन युद्ध के दौरान जनरल रावत ने मोर्चा संभाला था। इस दौरान उन्होंने नार्थ ईस्ट फ्रॉन्टियर एजेंसी बटालियन की कमान संभाली थी। इसके अलावा उन्होंने कांगो में संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग फोर्स की भी अगुवाई की। चीन से जंग के दौरान भी जनरल रावत ने बहादुरी का परिचय दिया था। वर्ष 1962 में मैकमोहन रेखा पर गतिरोध को लेकर जनरल रावत ने पहली बार चीन से लोहा लिया और बहादुरी से उन्हें रोके रखा। जम्मू-कश्मीर में शांति कायम करने के लिए उन्होंने एक कंपनी की कमान संभाली और वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के अलावा पूर्वी सेक्टर पर पांचवीं बटालियन 11 गोरखा राइफल्स की कमान भी उन्होंने संभाली थी। 1 सितंबर, 2016 को जनरल रावत ने सेना के उप-प्रमुख का पद संभाला और 31 दिसंबर 2016 को सेना चीफ का पद पर अधिकृत थे। उनकी कार्य कुशलता और अनुभव को देखते हुए भारत सरकार ने 1 जनवरी 2020 में जनरल रावत को तीनों सेना का प्रमुख यानी चीफ डिफेन्स ऑफ़ स्टाफ बनाया।

सेना में रहते हुए उन्हें अब तक परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक, सेना पदक, विशिष्ट सेवा पदक से भी सम्मानित किया गया।

Continue Reading

Corona

ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते भारत में स्थगित हुई अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा

Published

on

Omicron | News Aur Chai | International Flight Ban

कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण भारत में पूर्व निर्धारित अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं रोक दी गई हैं। सरकार की तरफ से पहले यह फैसला किया गया था कि 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को शुरू किया जाएगा। लेकिन ओमिक्रोन के खतरे को मद्दे नज़र रखते हुए अब इस फैसले को टाल दिया गया है। यानी अब भारत में 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू नहीं हो पाएंगी। डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन की तरफ से कहा गया है कि वो अपने पूर्व के फैसले पर पुनर्विचार करेगें।

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 नवंबर को ओमिक्रॉन को लेकर बैठक की थी और इसी दौरान 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा गया था। प्रधानमंत्री ने विदेश से आने वाले लोगों की सख्त निगरानी करने की बात भी कही थी। ओमिक्रॉन के चलते हाल ही में सिक्किम ने विदेशी यात्रियों के आने-जाने पर रोक लगा दी है।

पिछले वर्ष कोरोना के चलते एहतियातन देश में नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई थी। हालांकि कुछ समय बाद कई देशों के साथ सीमित हवाई सेवा शुरू कर दी गई थी। ऐसा माना जा रहा था की इस बार क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों के मौके पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू कर दी जाएंगी लेकीन, दक्षिण अफ्रीका में पाए गए ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण अभी इस पर ब्रेक लगता दिख रहा है।

कई देशों में इस खतरनाक वैरिएंट को लेकर गाइडलाइंस जारी कर दी गई हैं, और इससे बचने के लिए अनेकों ऐ‍हतियात बरते जा रहे है। WHO ने इसे ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’, यानि चिंताजनक घोषित किया है।

जनरल वीके सिंह ने सोमवार को कहा था कि “अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने के लिए हम पर जनता का जबरदस्त दबाव है”। हम सभी नियमों का पालन कर रहे हैं और सावधानी बरत रहे हैं। बाहर से आने वाले हर व्यक्ति का परीक्षण और जांच हवाई अड्डे पर किया जा रहा है। परिणामों को देखने के बाद ही, उन्हें अनुमति दी जा रही है।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए हैं। इन दिशानिर्देशों के तहत अब यात्रियों को 14 दिन की यात्रा जानकारी और कोरोना वायरस की निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार खतरे की श्रेणी में आने वाले देशों के यात्रियों को भारत पहुंचने पर कोरोना जांच करवानी होगी और जांच का परिणाम आने तक एयरपोर्ट पर ही इंतजार करना होगा। अगर उनकी जांच निगेटिव आती है तो उन्हें सात दिन तक होम क्वारंटीन में रहना होगा और आठवें दिन फिर जांच की जाएगी। इस बार भी निगेटिव आने पर उन्हें अगले सात दिन के लिए खुद अपने स्वास्थ्य पर नजर रखने को कहा जाएगा।

कोरोना वायरस का नया वैरियंट ओमीक्रोन भारत में भी दस्तक दे चुका है। साथ ही साथ ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बोत्सवाना, ब्राजील, कनाडा, चेक गणराज्य, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, घाना, हांगकांग, आयरलैंड, इजराइल, इटली, जापान, मोजाम्बिक, नीदरलैंड, नाइजीरिया, नॉर्वे, पुर्तगाल, रीयूनियन द्वीपसमूह, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, स्विटजरलैंड, यूएई, ब्रिटेन और अमेरिका भी ओमीक्रोन के गिरफ्त में आ चुके हैं।

Continue Reading

Most Popular