Connect with us

Featured

Israel Continues Committing War Crimes Gaza Forcing Hundreds Of Residents To Flee Their Homes

Published

on

Gaza II News Aur Chai

Palestinians were yet again faced with the horrors of arbitrary intimidation, and belligerent attacks by Israel in Gaza as its Air Force continued its unabated bombing campaign into the early hours of Friday morning. Several media houses reported airstrikes by the Israeli Air Force earlier Thursday, which targeted multiple landmark towers in Gaza, comprising several residential apartments and commercial and media offices. According to the Health Ministry in Gaza, the death toll has reached 109, including 28 children and 15 women, with over 621 estimated to have sustained injuries.

Meanwhile, Israeli forces on the ground continued to intimidate, provoke, threaten and inflict psychological trauma on Palestinians living in mixed neighbourhoods across the occupied West Bank, attacking their homes and businesses; confining them to unsafe spaces under the looming threat of an attack by armed Colonial Israeli Settler Mobs and Israeli ground forces. Emboldened by Israel’s Prime Minister, Benjamin Netanyahu’s green light to use “means with full powers”, several ground forces have seen traumatizing residents living in various parts of the occupied West Bank.

 

On Wednesday, Israeli news channel ‘Channel 11’ live telecasted a public lynching carried out by reportedly by a large group of Far-Right nationalists. As seen in the video, the group pulled the person, believed to be an Arab, from the car and viciously beat him up in the street amidst Israeli police presence. Videos posted on Twitter reflected the monstrosity of the Israeli forces, where they can be seen entering a Palestinian Family’s home in Haifa and assaulting them. Forces can also be seen apathetically throwing stun grenades in by-lanes within neighborhoods.

Instances of brutality brazenly carried out by Israeli Police, the IDF and colonial settlers are not isolated. The IDF and Israeli police have a decade-long history of sexualizing, assaulting, threatening, provoking, and scoffing at Palestinians living in occupied territories. Unlawful detentions, arbitrary confinement, rights violations, alienation, and the occupation of oppression, subjugation, and settler colonialism are psychological tactics highlighted within the Israeli administration’s notebook to curb the Palestinian resistance.

The malice currently on display by Israel escalated a week earlier when the Israeli Police stormed Al-Aqsa Mosque, located in East Jerusalem, brutally injuring and dismissing over 200 worshippers gathered to offer prayers during the holy month – by use of rubber pellets and Stun Grenades. Protests against the impending ruling by the Israeli High Court of Justice – initially to be given on Jerusalem Day – on the evictions of eight Palestinian families from the Sheikh Jarrah neighborhood in East Jerusalem for Israeli Colonial Settlers to move in have been met with excessive pushback by the Israeli Police. At the beginning of the month, the Israeli Police resorted to firing a stench liquid called ‘Skunk Water’ that hangs in the air, preventing demonstrators from gathering on the Sheikh Jarrah neighborhood’s streets.

Following the violence perpetrated by Israeli forces at the Al-Aqsa Mosque, Hamas, the militant group which rules Gaza, warned Israel of “consequences for the aggression”. On Monday, the soaring tensions resulted in Hamas launching rockets towards Israel, with Israel retaliating with their ongoing bombing and terrorism campaign against innocents in Gaza and the West Bank. Hamas launched a barrage of missiles towards Israel this week. While most of them were intercepted by Israel’s air defense system, the few that passed through caused the death of 7 Israelis. Among them was a 6-year-old child who was killed by a rocket attack.

Israel, in retaliation, leveled several parts of Gaza, targeting landmark towers and residential homes, some by issuing warnings to evacuate and others not, in their ongoing air bombing raids in Gaza. Earlier this week, they also claim to have targeted buildings housing Hamas operational facilities in Gaza and killed top commanders of the militant organization.

The never-ending stream of bone-shattering shelling throughout harrowing nights and into the early hours of the following day have forced many residents to abandon their homes, fearing an air attack by the Israeli Air Force. Over 2 million civilians live in Gaza city, where 41% are children under 14 years while 22% are between 18-29 years old. More than 70% of the population are refugees that have been dispossessed. Gaza, being home to over 2 million inhabitants ghettoized into a compact city, ruled by a militant organization and blocked by Air, Water, and Road, does not have a bomb shelter for the innocents. Many of those forced to move out of their homes have sought refuge in UN schools as the bombardment engulfs the city.

The belligerent Israeli offensive has desecrated livelihoods in an economy already trembling on its knees. In addition, Israeli settlers, armed to the tooth and backed by the insouciance of the Israeli Police, have threatened and vandalized Palestinian lives and livelihood in parts of the occupied West Bank. The escalation of Israel’s offensive comes on the eve of Eid-al-Fitr, as Muslims around the world celebrate the end of the holy month of Ramadan.

Unfettered shelling by the Israeli Air Force, throughout Thursday night into the early hours of Friday morning, saw several casualties in Gaza, amongst which a family was reported to be buried in rubble following an Israeli airstrike. A woman and her three children were said to have been killed by an airstrike adding to the death toll; medical services eventually retrieved their bodies after an ambulance was prevented from entering the northern part of Gaza due to the bombarding. Both the media and the medical services have not entered the city due to the constant airstrikes.

Israeli Settlers continued targeting Palestinian homes in the occupied West Bank earlier today. Reports of a young boy being injured after being hit on the thigh by a stray bullet. In the early hours of Friday morning, protests erupted across the occupied West Bank, denouncing the Israeli operation in Gaza. The youth took to the streets, chanting, “Al-Aqsa is calling, Gaza is calling, Lydd is calling, o people of my country, unite.”

 

The Palestinian population in Israel, Gaza, and the occupied West Bank have long been subject to Zionists’ cruelty and heinous barbarianism, Israeli Defence Forces (IDF), Israeli Occupation Forces (IOF), armed colonial settlers and the Israeli Government, as a whole. ‘Nakba’, a term used by the Palestinians to refer to the events of 1948, wherein over 540 towns and villages were massacred, leaving millions of Palestinians internally displaced, owing to the formation of Israel, has made its way into popular discourse communicating that the ‘Nakba’ never ended and has been ongoing since the formation of Israel.


Disclaimer: The opinions expressed in this article are the personal opinions of the author. The facts and opinions appearing in the article do not reflect the views of NAC and NAC does not assume any responsibility or liability for the same.

Hey there, I'm Alric, a third-year media student, and aspiring multimedia journalist. In my spare time, you will probably find me exploring bookstores or taking photographs. Nevertheless, If you see me around, I'm always up for a high-five!!

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

College Events

Project Zaraat by Enactus DCAC

Published

on

By

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Farmers form the backbone of the Indian Economy, making up more than 40% of the workforce. However, every day 28 people dependent on farming commit suicide—the post-harvest losses in the country amount to over 93,000 crores per year. The loss of 93,000 crores constitutes approximately 40% of the country’s total produce. This occurs due to the perishable nature of agricultural produce, which often forces farmers to sell their produce at the prevailing market price, be it high or low, thereby resulting in a loss of bargaining power.

Addressing this issue through the positive power of social entrepreneurship, Enactus DCAC, an international not for profit student body organisation, initiated Project Zaraat for the upliftment of the farming community. The mission of Project Zaraat is to minimise post-harvest losses and enhance forward linkages through a self-sustaining social enterprise.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Under the mentorship and guidance of Michigan State University and the Indian Agricultural Research Institute, Zaraat provides the farmers with a unique storage solution that works on the principle of evaporative cooling. It is affordable, portable, and eco-friendly, making it different from conventional storage facilities. Moreover, this solution increases the shelf life of the produce by upto ten days, ensuring that the quality of produce does not deteriorate. Apart from this, they also aim to partner with various B2B aggregators to ensure a rise in income for the farmers and provide them with payment security.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Currently, they are in the process of integrating farmers into an FPO to ensure collective bargaining power. They are also exploring sustainable agriculture practices that are vital in a climate constrained world.

Project Zaraat is a recipient of the KPMG Ethics Grant and also received a Special Mention at the Enactus Early Stage National Competition 2021.

Building on this by the end of the year, they aim to sustain the lives of 100 farmers by providing them with an income boost of 25%, reduce post-harvest losses by a whopping 60%, and minimise the energy consumption by 20%. For more information, visit www.enactusdcac.com.

Continue Reading

Featured

हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य की मौत

Published

on

General Bipin Rawat

तमिलनाडु के कन्नूर में वायुसेना के हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 11 अन्य लोगों का निधन हो गया है। सीडीएस बिपिन रावत सेना के Mi-17V5 हेलिकॉप्टर कोयंबटूर के सुलूर एयरबेस से वेलिंगटन की ओर जा रहे थे, जहां कॉलेज के एक कार्यक्रम में उन्हें हिस्सा लेना था। हेलिकॉप्टर सुलूर से वेलिंगटन की ओर जाते समय कुन्नूर में क्रैश हुआ। सीडीएस बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर नीलगिरी के जंगलों में दुर्घटनाग्रस्त हुआ, इस इलाके को टी एस्टेट भी कहा जाता है। वायुसेना के हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जनरल रावत को घायल अवस्था में अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। वायुसेना ने ट्वीट करते हुऐ इस बात की पुष्टि की है। वायुसेना की जानकारी के अनुसार 14 में से 13 लोगों की मौत हो चुकी है और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का अस्पताल में इलाज चल रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि दुर्घटना कोहरे की स्थिति के चलते साफ न दिखाई देने के कारण हुई है। वायुसेना ने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

जिस हेलिकॉप्टर में जनरल रावत सवार थे वह हेलीकॉप्टर एमआई सीरीज का था। Mi-17V5 हेलिकॉप्टर में दो इंजन होते हैं और इसे वीआईपी चॉपर कहा जाता है। काफी लंबे समय से वायुसेना इसका इस्तेमाल करती आई है। यदि कहीं हवाई पट्टी की सुविधा उपलब्ध नहीं होती तो वहां पर वीआईपी मूवमेंट इसी हेलीकॉप्टर के जरिए होता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई नेताओं और अभिनेताओं ने जनरल रावत के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विट करते हुए कहा “तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर दुर्घटना से मैं बहुत दुखी हूं, जिसमें हमने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों को खो दिया है। उन्होंने अत्यंत परिश्रम के साथ भारत की सेवा की। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।

जहां जनरल रावत के निधन पर पूरा देश शोक व्यक्त कर रहा हैं वहीं सेवानिवृत्त सेना अधिकारी कर्नल बलजीत बख्शी ने संवेदनहीनता भरा ट्वीट किया जिसमे उन्होंने कहा, “कर्म का लोगों से निपटने का अपना तरीका है।” हालांकि लोगों की कड़ी निंदा के बाद उन्होंने अपने अकाउंट से ट्वीट को डिलीट कर दिया।

इतिहास:

चीफ डिफेंस ऑफ़ स्टाफ विपिन रावत का जन्म उत्तराखंड के पौरी गढ़वाल जिले में हुआ था। लम्बे समय तक फ़ौज में रहने के दौरान जनरल रावत को सेना के प्रमुख सम्मानों से सम्मानित किया गया था। 16 दिसंबर 1978, में जनरल रावत पहली बार मिजोरम के 11वीं गोरखा रायफल की 5वीं बटालियन में कमीशन पर शामिल हुए थे।

जनरल रावत के पिता भी इस यूनिट का हिस्सा थे। उन्होंने अपने पिता से युद्धनीति सीखी, जिनका आगे जंग में उन्होंने भरपूर इस्तेमाल किया। भारत-चीन युद्ध के दौरान जनरल रावत ने मोर्चा संभाला था। इस दौरान उन्होंने नार्थ ईस्ट फ्रॉन्टियर एजेंसी बटालियन की कमान संभाली थी। इसके अलावा उन्होंने कांगो में संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग फोर्स की भी अगुवाई की। चीन से जंग के दौरान भी जनरल रावत ने बहादुरी का परिचय दिया था। वर्ष 1962 में मैकमोहन रेखा पर गतिरोध को लेकर जनरल रावत ने पहली बार चीन से लोहा लिया और बहादुरी से उन्हें रोके रखा। जम्मू-कश्मीर में शांति कायम करने के लिए उन्होंने एक कंपनी की कमान संभाली और वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के अलावा पूर्वी सेक्टर पर पांचवीं बटालियन 11 गोरखा राइफल्स की कमान भी उन्होंने संभाली थी। 1 सितंबर, 2016 को जनरल रावत ने सेना के उप-प्रमुख का पद संभाला और 31 दिसंबर 2016 को सेना चीफ का पद पर अधिकृत थे। उनकी कार्य कुशलता और अनुभव को देखते हुए भारत सरकार ने 1 जनवरी 2020 में जनरल रावत को तीनों सेना का प्रमुख यानी चीफ डिफेन्स ऑफ़ स्टाफ बनाया।

सेना में रहते हुए उन्हें अब तक परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक, सेना पदक, विशिष्ट सेवा पदक से भी सम्मानित किया गया।

Continue Reading

Corona

ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते भारत में स्थगित हुई अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा

Published

on

Omicron | News Aur Chai | International Flight Ban

कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण भारत में पूर्व निर्धारित अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं रोक दी गई हैं। सरकार की तरफ से पहले यह फैसला किया गया था कि 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को शुरू किया जाएगा। लेकिन ओमिक्रोन के खतरे को मद्दे नज़र रखते हुए अब इस फैसले को टाल दिया गया है। यानी अब भारत में 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू नहीं हो पाएंगी। डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन की तरफ से कहा गया है कि वो अपने पूर्व के फैसले पर पुनर्विचार करेगें।

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 नवंबर को ओमिक्रॉन को लेकर बैठक की थी और इसी दौरान 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा गया था। प्रधानमंत्री ने विदेश से आने वाले लोगों की सख्त निगरानी करने की बात भी कही थी। ओमिक्रॉन के चलते हाल ही में सिक्किम ने विदेशी यात्रियों के आने-जाने पर रोक लगा दी है।

पिछले वर्ष कोरोना के चलते एहतियातन देश में नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई थी। हालांकि कुछ समय बाद कई देशों के साथ सीमित हवाई सेवा शुरू कर दी गई थी। ऐसा माना जा रहा था की इस बार क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों के मौके पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू कर दी जाएंगी लेकीन, दक्षिण अफ्रीका में पाए गए ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण अभी इस पर ब्रेक लगता दिख रहा है।

कई देशों में इस खतरनाक वैरिएंट को लेकर गाइडलाइंस जारी कर दी गई हैं, और इससे बचने के लिए अनेकों ऐ‍हतियात बरते जा रहे है। WHO ने इसे ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’, यानि चिंताजनक घोषित किया है।

जनरल वीके सिंह ने सोमवार को कहा था कि “अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने के लिए हम पर जनता का जबरदस्त दबाव है”। हम सभी नियमों का पालन कर रहे हैं और सावधानी बरत रहे हैं। बाहर से आने वाले हर व्यक्ति का परीक्षण और जांच हवाई अड्डे पर किया जा रहा है। परिणामों को देखने के बाद ही, उन्हें अनुमति दी जा रही है।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए हैं। इन दिशानिर्देशों के तहत अब यात्रियों को 14 दिन की यात्रा जानकारी और कोरोना वायरस की निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार खतरे की श्रेणी में आने वाले देशों के यात्रियों को भारत पहुंचने पर कोरोना जांच करवानी होगी और जांच का परिणाम आने तक एयरपोर्ट पर ही इंतजार करना होगा। अगर उनकी जांच निगेटिव आती है तो उन्हें सात दिन तक होम क्वारंटीन में रहना होगा और आठवें दिन फिर जांच की जाएगी। इस बार भी निगेटिव आने पर उन्हें अगले सात दिन के लिए खुद अपने स्वास्थ्य पर नजर रखने को कहा जाएगा।

कोरोना वायरस का नया वैरियंट ओमीक्रोन भारत में भी दस्तक दे चुका है। साथ ही साथ ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बोत्सवाना, ब्राजील, कनाडा, चेक गणराज्य, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, घाना, हांगकांग, आयरलैंड, इजराइल, इटली, जापान, मोजाम्बिक, नीदरलैंड, नाइजीरिया, नॉर्वे, पुर्तगाल, रीयूनियन द्वीपसमूह, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, स्विटजरलैंड, यूएई, ब्रिटेन और अमेरिका भी ओमीक्रोन के गिरफ्त में आ चुके हैं।

Continue Reading

Most Popular