Connect with us

Featured

Fake News Contagion Goes Viral

Published

on

Fake News Contagion Goes Viral

Fake news stories seem to be as equally contagious as COVID-19, with the latest piece of misinformation revolving around the news of the death of a pregnant elephant in Palakkad, which caused mainstream and social media outrage. The first misinformation was about the place of the incident, which was initially reported to be Malappuram and then clarified by the Kerala Government as Palakkad.

This then took on a communal tone, with fake news regarding the accused going viral on a tweet initially posted by Amar Prasad Reddy, a media advisor to the Union Minister of State for Health and Family Welfare. In the tweet, he stated that two individuals Amzath Ali and Thamim Shaikh, were responsible for the death of the pachyderm and had been arrested for the same. The tweet was later taken down, and a clarification was tweeted in its place.

Many mainstream media houses had posted articles and tweets featuring the misinformation from the tweet. The news was confirmed to be fake after Alt News contacted Palakkad Superintendent of Police G Siva Vikram, who later clarified that the name of the accused was P. Wilson and that he had been arrested. The correct information was then released on mainstream and social media, clearing confusion.

When leading newspapers are facing significant budget cuts due to a lack of funds from advertising, it is tough to distinguish accurate information from fake news or clarify it from trusted media sources. With social media and instant messaging applications paving the way for several miscreants to sensationalize misinformation and spread indefinitely, the past few months have brought about a consequential collection of fake news stories.

When did it all begin?

According to a global study conducted in March 2020 named, ‘Problems with Finding Coronavirus News Worldwide 2020’ on Statista, around 74 per cent of news consumers were worried about finding fake news and false information about the pandemic on the news.

The spread of misinformation about the virus began well ahead of the first nationwide lockdown, which was imposed for 21 days starting from March 24, 2020. It began with the spread of fake coronavirus remedies on WhatsApp, which ranged from simple ones like garlic and ginger to ones like alcohol that proved life-threatening in countries like Iran. It is alleged that over 700 people died due to alcohol poisoning because of false forward messages advertising it as a remedy.

A few World leaders ended up propagating fake news with the US President Donald Trump vouching for hydroxychloroquine before any tests proved its effectiveness, and the Tanzanian President Pombe Magufuli claimed that lemon and ginger water could cure the virus.

In India, several political leaders made similar claims. Ashwini Kumar Choubey, a member of the BJP and the Minister of State for Health and Family Welfare, claimed that Vitamin D was a cure for the virus and advised that sitting for 15 minutes under the sun, which was hottest during 11-2 pm would boost immunity and ‘kill viruses like the coronavirus.’

Other politicians on the list include BJP MLA from Assam, Suman Hari Priya, who spoke about a potion made of cow urine and excreta being a cure, and Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath saying the cause of the virus was stress.

Migrant Crisis and Rise of Arrests due to Fake News in April

In the last week of March, this fake news epidemic reached it’s tipping point when, amidst the nation’s first lockdown, over 40 per cent of its population, consisting of migrant workers from remote parts of the country began to panic and walked hundreds of kilometers to catch buses back to their respective states. Mostly hailing from Uttar Pradesh, these migrant workers had to fight for space on the buses back home, causing havoc and paving the way to one of the biggest migrant crises India has seen.

The Supreme Court of India and the Press Council largely attributed the rise of this crisis to the panic caused by the increasing amount of fake news in mainstream coverage, which had claimed a three-month lockdown, when the first one was only meant for 21 days. The Press Council advised mainstream media houses to “responsibly ensure dissemination of verified news on coronavirus outbreak, based on the daily bulletin by the Government following the Supreme Court’s directive on the issue.”

Arrest of people:

Dissemination of fake news also caused a spike in the number of arrests when police officers began to arrest people for sharing false information instead of tackling the source of the problem. According to an AFP report in mid-April, over 100 arrests had taken place due to misinformation regarding the coronavirus issue. The cases were being registered under the Indian Penal Code, and the Epidemic Diseases Act of 1897 since a specific law for fake news is absent.

Government’s Response and Need for legal measures

Prime Minister Narendra Modi addressed the Indian Media on March 7, asking people not to fall victim to the fake news regarding natural remedies for the virus. The Government then launched the ‘MyGovCoronaHelpDesk,’ a WhatsApp Chatbot, to answer urgent queries regarding the virus and lockdown and to prevent the spread of misinformation.

Followed by the measure, it also issued an advisory to major digital platforms, asking them to take responsibility for the misinformation on its feeds.

In May, the Bureau of Police Research and Development (BPRD) published a step-by-step guide for law enforcement agencies to curb the spread of fake news to incite communal riots and feelings of panic among the public. The manual contained instructions on how to identify fake news using measures like Google reverse image search and lists fact-checking websites to verify sources.

However, despite several measures implemented by the Government, fake news seems to continue its rampage, be it fake forwards via WhatsApp or fraudulent posts, images, and videos on other social networking sites like Facebook and Twitter.

The absence of a specific law to address this issue is also not helping. So far, legal measures being used to tackle misinformation and fake news during the lockdown include the IPC (Section 501-A), the IT Act (Sec 66D), and the Disaster Management Act, 2005 (Sec 54).

The dissemination of fake news and misinformation during a pandemic has made it evident that there is a need for specific legal measures to tackle these issues.

Are Social Media Firms doing enough?

According to the latest BBC news report on June 4, 2020, the answer is a resounding NO. The report states that over 90 per cent of posts with false information regarding COVID-19 continue to remain online, with social media platforms like Facebook and Twitter accounting for over 600 such posts.

Despite both firms claiming that they had put up measures and introduced guidelines to deal with fake news posts effectively, the research report put forth by the Center for Countering Digital Hate proves otherwise.

“Social media giants have claimed many times that they are taking COVID-related misinformation seriously, but this new research shows that even when they are handed the posts promoting misinformation, they fail to take action,” said Imran Ahmed, Chief Executive of the Center for Countering Digital Hate to BBC News.

A freelance writer and journalist-in-the-making who is currently pursuing her Master's in Communication and Media Studies

College Events

Project Zaraat by Enactus DCAC

Published

on

By

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Farmers form the backbone of the Indian Economy, making up more than 40% of the workforce. However, every day 28 people dependent on farming commit suicide—the post-harvest losses in the country amount to over 93,000 crores per year. The loss of 93,000 crores constitutes approximately 40% of the country’s total produce. This occurs due to the perishable nature of agricultural produce, which often forces farmers to sell their produce at the prevailing market price, be it high or low, thereby resulting in a loss of bargaining power.

Addressing this issue through the positive power of social entrepreneurship, Enactus DCAC, an international not for profit student body organisation, initiated Project Zaraat for the upliftment of the farming community. The mission of Project Zaraat is to minimise post-harvest losses and enhance forward linkages through a self-sustaining social enterprise.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Under the mentorship and guidance of Michigan State University and the Indian Agricultural Research Institute, Zaraat provides the farmers with a unique storage solution that works on the principle of evaporative cooling. It is affordable, portable, and eco-friendly, making it different from conventional storage facilities. Moreover, this solution increases the shelf life of the produce by upto ten days, ensuring that the quality of produce does not deteriorate. Apart from this, they also aim to partner with various B2B aggregators to ensure a rise in income for the farmers and provide them with payment security.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Currently, they are in the process of integrating farmers into an FPO to ensure collective bargaining power. They are also exploring sustainable agriculture practices that are vital in a climate constrained world.

Project Zaraat is a recipient of the KPMG Ethics Grant and also received a Special Mention at the Enactus Early Stage National Competition 2021.

Building on this by the end of the year, they aim to sustain the lives of 100 farmers by providing them with an income boost of 25%, reduce post-harvest losses by a whopping 60%, and minimise the energy consumption by 20%. For more information, visit www.enactusdcac.com.

Continue Reading

Hindi

हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य की मौत

Published

on

General Bipin Rawat

तमिलनाडु के कन्नूर में वायुसेना के हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 11 अन्य लोगों का निधन हो गया है। सीडीएस बिपिन रावत सेना के Mi-17V5 हेलिकॉप्टर कोयंबटूर के सुलूर एयरबेस से वेलिंगटन की ओर जा रहे थे, जहां कॉलेज के एक कार्यक्रम में उन्हें हिस्सा लेना था। हेलिकॉप्टर सुलूर से वेलिंगटन की ओर जाते समय कुन्नूर में क्रैश हुआ। सीडीएस बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर नीलगिरी के जंगलों में दुर्घटनाग्रस्त हुआ, इस इलाके को टी एस्टेट भी कहा जाता है। वायुसेना के हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जनरल रावत को घायल अवस्था में अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। वायुसेना ने ट्वीट करते हुऐ इस बात की पुष्टि की है। वायुसेना की जानकारी के अनुसार 14 में से 13 लोगों की मौत हो चुकी है और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का अस्पताल में इलाज चल रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि दुर्घटना कोहरे की स्थिति के चलते साफ न दिखाई देने के कारण हुई है। वायुसेना ने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

जिस हेलिकॉप्टर में जनरल रावत सवार थे वह हेलीकॉप्टर एमआई सीरीज का था। Mi-17V5 हेलिकॉप्टर में दो इंजन होते हैं और इसे वीआईपी चॉपर कहा जाता है। काफी लंबे समय से वायुसेना इसका इस्तेमाल करती आई है। यदि कहीं हवाई पट्टी की सुविधा उपलब्ध नहीं होती तो वहां पर वीआईपी मूवमेंट इसी हेलीकॉप्टर के जरिए होता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई नेताओं और अभिनेताओं ने जनरल रावत के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विट करते हुए कहा “तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर दुर्घटना से मैं बहुत दुखी हूं, जिसमें हमने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों को खो दिया है। उन्होंने अत्यंत परिश्रम के साथ भारत की सेवा की। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।

जहां जनरल रावत के निधन पर पूरा देश शोक व्यक्त कर रहा हैं वहीं सेवानिवृत्त सेना अधिकारी कर्नल बलजीत बख्शी ने संवेदनहीनता भरा ट्वीट किया जिसमे उन्होंने कहा, “कर्म का लोगों से निपटने का अपना तरीका है।” हालांकि लोगों की कड़ी निंदा के बाद उन्होंने अपने अकाउंट से ट्वीट को डिलीट कर दिया।

इतिहास:

चीफ डिफेंस ऑफ़ स्टाफ विपिन रावत का जन्म उत्तराखंड के पौरी गढ़वाल जिले में हुआ था। लम्बे समय तक फ़ौज में रहने के दौरान जनरल रावत को सेना के प्रमुख सम्मानों से सम्मानित किया गया था। 16 दिसंबर 1978, में जनरल रावत पहली बार मिजोरम के 11वीं गोरखा रायफल की 5वीं बटालियन में कमीशन पर शामिल हुए थे।

जनरल रावत के पिता भी इस यूनिट का हिस्सा थे। उन्होंने अपने पिता से युद्धनीति सीखी, जिनका आगे जंग में उन्होंने भरपूर इस्तेमाल किया। भारत-चीन युद्ध के दौरान जनरल रावत ने मोर्चा संभाला था। इस दौरान उन्होंने नार्थ ईस्ट फ्रॉन्टियर एजेंसी बटालियन की कमान संभाली थी। इसके अलावा उन्होंने कांगो में संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग फोर्स की भी अगुवाई की। चीन से जंग के दौरान भी जनरल रावत ने बहादुरी का परिचय दिया था। वर्ष 1962 में मैकमोहन रेखा पर गतिरोध को लेकर जनरल रावत ने पहली बार चीन से लोहा लिया और बहादुरी से उन्हें रोके रखा। जम्मू-कश्मीर में शांति कायम करने के लिए उन्होंने एक कंपनी की कमान संभाली और वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के अलावा पूर्वी सेक्टर पर पांचवीं बटालियन 11 गोरखा राइफल्स की कमान भी उन्होंने संभाली थी। 1 सितंबर, 2016 को जनरल रावत ने सेना के उप-प्रमुख का पद संभाला और 31 दिसंबर 2016 को सेना चीफ का पद पर अधिकृत थे। उनकी कार्य कुशलता और अनुभव को देखते हुए भारत सरकार ने 1 जनवरी 2020 में जनरल रावत को तीनों सेना का प्रमुख यानी चीफ डिफेन्स ऑफ़ स्टाफ बनाया।

सेना में रहते हुए उन्हें अब तक परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक, सेना पदक, विशिष्ट सेवा पदक से भी सम्मानित किया गया।

Continue Reading

Corona

ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते भारत में स्थगित हुई अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा

Published

on

Omicron | News Aur Chai | International Flight Ban

कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण भारत में पूर्व निर्धारित अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं रोक दी गई हैं। सरकार की तरफ से पहले यह फैसला किया गया था कि 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को शुरू किया जाएगा। लेकिन ओमिक्रोन के खतरे को मद्दे नज़र रखते हुए अब इस फैसले को टाल दिया गया है। यानी अब भारत में 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू नहीं हो पाएंगी। डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन की तरफ से कहा गया है कि वो अपने पूर्व के फैसले पर पुनर्विचार करेगें।

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 नवंबर को ओमिक्रॉन को लेकर बैठक की थी और इसी दौरान 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा गया था। प्रधानमंत्री ने विदेश से आने वाले लोगों की सख्त निगरानी करने की बात भी कही थी। ओमिक्रॉन के चलते हाल ही में सिक्किम ने विदेशी यात्रियों के आने-जाने पर रोक लगा दी है।

पिछले वर्ष कोरोना के चलते एहतियातन देश में नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई थी। हालांकि कुछ समय बाद कई देशों के साथ सीमित हवाई सेवा शुरू कर दी गई थी। ऐसा माना जा रहा था की इस बार क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों के मौके पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू कर दी जाएंगी लेकीन, दक्षिण अफ्रीका में पाए गए ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण अभी इस पर ब्रेक लगता दिख रहा है।

कई देशों में इस खतरनाक वैरिएंट को लेकर गाइडलाइंस जारी कर दी गई हैं, और इससे बचने के लिए अनेकों ऐ‍हतियात बरते जा रहे है। WHO ने इसे ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’, यानि चिंताजनक घोषित किया है।

जनरल वीके सिंह ने सोमवार को कहा था कि “अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने के लिए हम पर जनता का जबरदस्त दबाव है”। हम सभी नियमों का पालन कर रहे हैं और सावधानी बरत रहे हैं। बाहर से आने वाले हर व्यक्ति का परीक्षण और जांच हवाई अड्डे पर किया जा रहा है। परिणामों को देखने के बाद ही, उन्हें अनुमति दी जा रही है।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए हैं। इन दिशानिर्देशों के तहत अब यात्रियों को 14 दिन की यात्रा जानकारी और कोरोना वायरस की निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार खतरे की श्रेणी में आने वाले देशों के यात्रियों को भारत पहुंचने पर कोरोना जांच करवानी होगी और जांच का परिणाम आने तक एयरपोर्ट पर ही इंतजार करना होगा। अगर उनकी जांच निगेटिव आती है तो उन्हें सात दिन तक होम क्वारंटीन में रहना होगा और आठवें दिन फिर जांच की जाएगी। इस बार भी निगेटिव आने पर उन्हें अगले सात दिन के लिए खुद अपने स्वास्थ्य पर नजर रखने को कहा जाएगा।

कोरोना वायरस का नया वैरियंट ओमीक्रोन भारत में भी दस्तक दे चुका है। साथ ही साथ ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बोत्सवाना, ब्राजील, कनाडा, चेक गणराज्य, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, घाना, हांगकांग, आयरलैंड, इजराइल, इटली, जापान, मोजाम्बिक, नीदरलैंड, नाइजीरिया, नॉर्वे, पुर्तगाल, रीयूनियन द्वीपसमूह, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, स्विटजरलैंड, यूएई, ब्रिटेन और अमेरिका भी ओमीक्रोन के गिरफ्त में आ चुके हैं।

Continue Reading

Most Popular