Connect with us

Featured

Centre Seeks To Wield Wider Power In Delhi

Published

on

Delhi Center Issue | Arvind Kejriwal | Narendra Modi | News Aur Chai

On Monday, February 15, 2021, the Central Government introduced a bill in the Lok Sabha, which aims to give additional powers to the centre-appointed Lieutenant Governor of Delhi over the city-state’s daily affairs. The National Capital Territory of Delhi (Amendment) Bill, 2021 aims to amend four sections of the existing Act to give the Lieutenant Governor overreaching powers. The bill says that the Government in Delhi will be the Lieutenant Governor and not the Delhi Legislative Assembly.

Before getting into the bill’s details, let’s look at how Union Territories (UTs), particularly the National Capital Territory of Delhi, are governed in India.

How Union Territories (UTs) Are Governed

The concept of Union Territories (UTs) was not added in the Indian Constitution until the Constitution (Seventh Amendment) Act of 1956. Currently, India has eight Union Territories. The central Government administers the UTs, and unlike states, do not have their governments. The Central Government appoints a Lieutenant General (LG), who is the administrator of the Union Territory and a representative of the President of India, who is the Chief Administrator of the UT according to Article 239.

There are two types of Union Territories- Union Territory With Legislature and Union Territory Without Legislature. Out of the eight, three UTs have their legislature. These are Delhi, Puducherry and Jammu & Kashmir. These UTs have their legislative assemblies and their council of ministers.

According to the Government of National Capital Territory Delhi Act (1991), the state government of Delhi has the power to make laws on all subjects apart from Public Order, Police and Land. This Act of 1991 outlines the powers of the legislative assembly of Delhi, the Lieutenant General’s discretionary powers, and the Chief Minister’s duties concerning the need to provide the LG with information.

Why The New Bill?

The concerns about how little powers the elected Government in Delhi have been raised by all major political parties since the 90s. There have also been demands about full statehood for Delhi. The power tussle between the Central and State governments in Delhi has been continuing fiercely since the first term of the Aam Aadmi Party (AAP) Government in Delhi. The state government had frequent run-ins with the Lieutenant Governor and accused the LG of being the Centre’s agent and blocking the State Government’s development attempt. The State Government had also been accused of keeping the LG in the dark about executive decisions.

A Constitution Bench of the Supreme Court took up this matter in 2018. In July 2018, the five-judge bench gave a verdict that said the LG’s concurrence was not required on matters except Public Order, Police and Land over which the central Government has jurisdiction. It stated that the decision of the council of ministers would have to be communicated to the LG. It argued that requiring the prior concurrence of the LG would negate the ideals of representative governance and democracy. The AAP government claimed this to be a victory.

The Central Government says that the amendment is based on a 2019 Supreme Court Verdict and aims to affect its interpretation. It attempts to define the Government in Delhi to mean the Lieutenant General in all legislation passed by the assembly. This is in line with former LG Najeeb Jung’s opinion that the Government means the LG of NCT appointed by the President. The new bill aims to tilt the balance of power in favour of the Lt General. It bars the legislative assembly from making any rule or executive decision or enables itself or its committees regarding the city-state’s administration or to conduct inquiries about administrative decisions without seeking opinions from the LG.

The bill also said that any rules that are passed before this Act would be void. It also forces the legislative assembly to have its Procedure and Conduct of Business in line with that of the Parliament.

The Statement of Objects and Reasons attached with the draft bill read, “The said bill will promote harmonious relations between the legislature and the executive, and further define the responsibilities of the elected government and the lieutenant governor, in line with the constitutional scheme of governance of National Capital Territory of Delhi, as interpreted by the Hon’ble Supreme Court,”.

What Are The Proposed Amendments?

The Centre wants to amend Sections 21, 24, 33 and 44 of the Government of National Capital Territory of Delhi Act, 1991.

● Section 21 of the Act talks about restrictions on the legislative assembly to pass laws on some issues. The bill adds a subsection to clarify that the Government means the Lt General in any law passed by the assembly.

● To Section 24, the bill adds an amendment the LG will not assent to any bill that is not in line with the legislative assembly’s powers.

● Section 33 of the Act allows the Delhi assembly to make its own rules to conduct its business. The bill adds a clause that the house’s rules and procedures should be consistent with the Lok Sabha’s rules and procedures. It also says that any such rule made before the 2021 Act is passed will be void.

● The bill seeks to amend Section 44, which presently says that “all executive action of the lieutenant governor whether taken on the advice of his Ministers or otherwise shall be expressed to be taken in the name of the lieutenant governor”. The bill seeks to add that the Lt General’s opinion must be before the assembly takes any action.

Harsh Criticism From Major Political Parties

The Deputy Chief Minister of Delhi has called this amendment dangerous and expressed his fear that the Government in Delhi will mean nothing after the bill is passed. He also said that the bill goes against the federal structure of the country.

He said, “This Bill goes against what the Supreme Court Constitution Bench order had stated. If this is what the Centre wants to do, what is the point of holding elections and there is an elected government in the state? Why does the Centre pretend to be democratic?”

Chief Minister Arvind Kejriwal said, “After being rejected by people of Delhi [8 seats in Assembly, 0 in MCD bypolls], BJP seeks to drastically curtail powers of elected government through a Bill in LS today [Monday],” he tweeted. “Bill is contrary to Constitution Bench judgement. We strongly condemn BJP’s unconstitutional and anti-democracy move.”

In a tweet, Congress leader P Chidambaram compared the LG to a Viceroy- “Under the proposed amendments, the L-G appointed by the Central government will become a Viceroy exercising all powers according to the wishes of his master.”

The AAP is also planning a major protest against the bill.

I am a media student and an aspiring journalist. With enthusiasm and dedication towards my work, I treat each assignment with responsibility. Being an avid reader and writer I love bringing stories to life as much as I love reading them. I like listening to Hindustani Classical, Jazz and 60s French music. I am always on the lookout for fun expeditions and find myself visiting art galleries, museums and monuments in my free time.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

College Events

Project Zaraat by Enactus DCAC

Published

on

By

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Farmers form the backbone of the Indian Economy, making up more than 40% of the workforce. However, every day 28 people dependent on farming commit suicide—the post-harvest losses in the country amount to over 93,000 crores per year. The loss of 93,000 crores constitutes approximately 40% of the country’s total produce. This occurs due to the perishable nature of agricultural produce, which often forces farmers to sell their produce at the prevailing market price, be it high or low, thereby resulting in a loss of bargaining power.

Addressing this issue through the positive power of social entrepreneurship, Enactus DCAC, an international not for profit student body organisation, initiated Project Zaraat for the upliftment of the farming community. The mission of Project Zaraat is to minimise post-harvest losses and enhance forward linkages through a self-sustaining social enterprise.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Under the mentorship and guidance of Michigan State University and the Indian Agricultural Research Institute, Zaraat provides the farmers with a unique storage solution that works on the principle of evaporative cooling. It is affordable, portable, and eco-friendly, making it different from conventional storage facilities. Moreover, this solution increases the shelf life of the produce by upto ten days, ensuring that the quality of produce does not deteriorate. Apart from this, they also aim to partner with various B2B aggregators to ensure a rise in income for the farmers and provide them with payment security.

Project Zaraat | News Aur Chai Media

Project Zaraat | Image Source: NAC Media

Currently, they are in the process of integrating farmers into an FPO to ensure collective bargaining power. They are also exploring sustainable agriculture practices that are vital in a climate constrained world.

Project Zaraat is a recipient of the KPMG Ethics Grant and also received a Special Mention at the Enactus Early Stage National Competition 2021.

Building on this by the end of the year, they aim to sustain the lives of 100 farmers by providing them with an income boost of 25%, reduce post-harvest losses by a whopping 60%, and minimise the energy consumption by 20%. For more information, visit www.enactusdcac.com.

Continue Reading

Featured

हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य की मौत

Published

on

General Bipin Rawat

तमिलनाडु के कन्नूर में वायुसेना के हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 11 अन्य लोगों का निधन हो गया है। सीडीएस बिपिन रावत सेना के Mi-17V5 हेलिकॉप्टर कोयंबटूर के सुलूर एयरबेस से वेलिंगटन की ओर जा रहे थे, जहां कॉलेज के एक कार्यक्रम में उन्हें हिस्सा लेना था। हेलिकॉप्टर सुलूर से वेलिंगटन की ओर जाते समय कुन्नूर में क्रैश हुआ। सीडीएस बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर नीलगिरी के जंगलों में दुर्घटनाग्रस्त हुआ, इस इलाके को टी एस्टेट भी कहा जाता है। वायुसेना के हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जनरल रावत को घायल अवस्था में अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। वायुसेना ने ट्वीट करते हुऐ इस बात की पुष्टि की है। वायुसेना की जानकारी के अनुसार 14 में से 13 लोगों की मौत हो चुकी है और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का अस्पताल में इलाज चल रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि दुर्घटना कोहरे की स्थिति के चलते साफ न दिखाई देने के कारण हुई है। वायुसेना ने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

जिस हेलिकॉप्टर में जनरल रावत सवार थे वह हेलीकॉप्टर एमआई सीरीज का था। Mi-17V5 हेलिकॉप्टर में दो इंजन होते हैं और इसे वीआईपी चॉपर कहा जाता है। काफी लंबे समय से वायुसेना इसका इस्तेमाल करती आई है। यदि कहीं हवाई पट्टी की सुविधा उपलब्ध नहीं होती तो वहां पर वीआईपी मूवमेंट इसी हेलीकॉप्टर के जरिए होता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई नेताओं और अभिनेताओं ने जनरल रावत के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विट करते हुए कहा “तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर दुर्घटना से मैं बहुत दुखी हूं, जिसमें हमने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों को खो दिया है। उन्होंने अत्यंत परिश्रम के साथ भारत की सेवा की। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।

जहां जनरल रावत के निधन पर पूरा देश शोक व्यक्त कर रहा हैं वहीं सेवानिवृत्त सेना अधिकारी कर्नल बलजीत बख्शी ने संवेदनहीनता भरा ट्वीट किया जिसमे उन्होंने कहा, “कर्म का लोगों से निपटने का अपना तरीका है।” हालांकि लोगों की कड़ी निंदा के बाद उन्होंने अपने अकाउंट से ट्वीट को डिलीट कर दिया।

इतिहास:

चीफ डिफेंस ऑफ़ स्टाफ विपिन रावत का जन्म उत्तराखंड के पौरी गढ़वाल जिले में हुआ था। लम्बे समय तक फ़ौज में रहने के दौरान जनरल रावत को सेना के प्रमुख सम्मानों से सम्मानित किया गया था। 16 दिसंबर 1978, में जनरल रावत पहली बार मिजोरम के 11वीं गोरखा रायफल की 5वीं बटालियन में कमीशन पर शामिल हुए थे।

जनरल रावत के पिता भी इस यूनिट का हिस्सा थे। उन्होंने अपने पिता से युद्धनीति सीखी, जिनका आगे जंग में उन्होंने भरपूर इस्तेमाल किया। भारत-चीन युद्ध के दौरान जनरल रावत ने मोर्चा संभाला था। इस दौरान उन्होंने नार्थ ईस्ट फ्रॉन्टियर एजेंसी बटालियन की कमान संभाली थी। इसके अलावा उन्होंने कांगो में संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग फोर्स की भी अगुवाई की। चीन से जंग के दौरान भी जनरल रावत ने बहादुरी का परिचय दिया था। वर्ष 1962 में मैकमोहन रेखा पर गतिरोध को लेकर जनरल रावत ने पहली बार चीन से लोहा लिया और बहादुरी से उन्हें रोके रखा। जम्मू-कश्मीर में शांति कायम करने के लिए उन्होंने एक कंपनी की कमान संभाली और वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के अलावा पूर्वी सेक्टर पर पांचवीं बटालियन 11 गोरखा राइफल्स की कमान भी उन्होंने संभाली थी। 1 सितंबर, 2016 को जनरल रावत ने सेना के उप-प्रमुख का पद संभाला और 31 दिसंबर 2016 को सेना चीफ का पद पर अधिकृत थे। उनकी कार्य कुशलता और अनुभव को देखते हुए भारत सरकार ने 1 जनवरी 2020 में जनरल रावत को तीनों सेना का प्रमुख यानी चीफ डिफेन्स ऑफ़ स्टाफ बनाया।

सेना में रहते हुए उन्हें अब तक परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक, सेना पदक, विशिष्ट सेवा पदक से भी सम्मानित किया गया।

Continue Reading

Corona

ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते भारत में स्थगित हुई अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा

Published

on

Omicron | News Aur Chai | International Flight Ban

कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण भारत में पूर्व निर्धारित अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं रोक दी गई हैं। सरकार की तरफ से पहले यह फैसला किया गया था कि 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को शुरू किया जाएगा। लेकिन ओमिक्रोन के खतरे को मद्दे नज़र रखते हुए अब इस फैसले को टाल दिया गया है। यानी अब भारत में 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू नहीं हो पाएंगी। डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन की तरफ से कहा गया है कि वो अपने पूर्व के फैसले पर पुनर्विचार करेगें।

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 नवंबर को ओमिक्रॉन को लेकर बैठक की थी और इसी दौरान 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा गया था। प्रधानमंत्री ने विदेश से आने वाले लोगों की सख्त निगरानी करने की बात भी कही थी। ओमिक्रॉन के चलते हाल ही में सिक्किम ने विदेशी यात्रियों के आने-जाने पर रोक लगा दी है।

पिछले वर्ष कोरोना के चलते एहतियातन देश में नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई थी। हालांकि कुछ समय बाद कई देशों के साथ सीमित हवाई सेवा शुरू कर दी गई थी। ऐसा माना जा रहा था की इस बार क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों के मौके पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू कर दी जाएंगी लेकीन, दक्षिण अफ्रीका में पाए गए ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण अभी इस पर ब्रेक लगता दिख रहा है।

कई देशों में इस खतरनाक वैरिएंट को लेकर गाइडलाइंस जारी कर दी गई हैं, और इससे बचने के लिए अनेकों ऐ‍हतियात बरते जा रहे है। WHO ने इसे ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’, यानि चिंताजनक घोषित किया है।

जनरल वीके सिंह ने सोमवार को कहा था कि “अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने के लिए हम पर जनता का जबरदस्त दबाव है”। हम सभी नियमों का पालन कर रहे हैं और सावधानी बरत रहे हैं। बाहर से आने वाले हर व्यक्ति का परीक्षण और जांच हवाई अड्डे पर किया जा रहा है। परिणामों को देखने के बाद ही, उन्हें अनुमति दी जा रही है।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए हैं। इन दिशानिर्देशों के तहत अब यात्रियों को 14 दिन की यात्रा जानकारी और कोरोना वायरस की निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार खतरे की श्रेणी में आने वाले देशों के यात्रियों को भारत पहुंचने पर कोरोना जांच करवानी होगी और जांच का परिणाम आने तक एयरपोर्ट पर ही इंतजार करना होगा। अगर उनकी जांच निगेटिव आती है तो उन्हें सात दिन तक होम क्वारंटीन में रहना होगा और आठवें दिन फिर जांच की जाएगी। इस बार भी निगेटिव आने पर उन्हें अगले सात दिन के लिए खुद अपने स्वास्थ्य पर नजर रखने को कहा जाएगा।

कोरोना वायरस का नया वैरियंट ओमीक्रोन भारत में भी दस्तक दे चुका है। साथ ही साथ ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बोत्सवाना, ब्राजील, कनाडा, चेक गणराज्य, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, घाना, हांगकांग, आयरलैंड, इजराइल, इटली, जापान, मोजाम्बिक, नीदरलैंड, नाइजीरिया, नॉर्वे, पुर्तगाल, रीयूनियन द्वीपसमूह, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, स्विटजरलैंड, यूएई, ब्रिटेन और अमेरिका भी ओमीक्रोन के गिरफ्त में आ चुके हैं।

Continue Reading

Most Popular